-->

लेमिनेटस पेस्ट करने के निर्देश

एड्हीसिव  लगते समय 


  • सफ़ेद एड्हीसिव ग्लू को हमेशा अच्छी तरह हिलाने के बाद ही प्रयोग करें एड्हीसिव मे पानी न मिलाए पीले एड्हीसिव (ग्लू) का प्रयोग न करें। 
  • पार्टिकल बोर्ड पर एड्हीसिव को लगाने से पहले सतह को एक सूखे और साफ कपड़े से या रेगमार से अच्छी तरह साफ करें। 
  • ग्लू स्पेडर की मदद से लेमिनेट या बोर्ड पर एड्हीसिव की बराबर मात्रा (200-250 ग्राम प्रति वर्ग मीटर) लगाए किनारो पर अधिक एड्हीसिव लगाए (लगभग 3” सभी तरफ) एड्हीसिव को फैलाने के लिए ब्रश लकड़ी लेमिनते अथवा प्लाय इस्तेमाल न करें। 
  • एड्हीसिव को सुखाते समय सुनिश्चित करें की यह ना तो बहुत अधिक गीला हो और ना ही ज्यादा सूखा इसे एड्हीसिव पर एक कागज रखकर जांच की जा सकती है, यदि कागज पर चिपक जाता है तो एड्हीसिव सूखा नहीं है।  
  • एड्हीसिव को सुखाने का समय गर्मी मे 5-10 मिनट और बारिश एवं सर्दी में 10-15 मिनट है, यदि किसी तहखाने अथवा एयर कंडिशन कमरे मे लेमिनते को चिपकाया जा रहा है तो अधिक ध्यान दिया जाना चाहिए। 
  • सीधे अनुपयोग पे लेमिनेट को चिपकाते समय एक फिंच रोलर का इस्तेमाल करना चाहिए। बीच से शुरुआत करके किनारो की तरफ जाते हुए दबाया जाना चाहिए। फिंच रोलर को गर्मी में बारिश और सर्दी में 10-15 मिनट की तुलना में 5-10 मिनट के लिए इस्तेमाल करना चाहिए। फिंच रोलर नहीं होने पर हाथो से दबाया जा सकता है लेकिन लंबे समय के लिए।  

सुरक्षा के लिए निषेधक उपाय बारिश / सर्दी में इस्तेमाल लेमिनेट करना 


  • गर्मी की तुलना मे बारिश में आधार / लेमिनेट की तरह नम रहती है, इसलिए सतह पर एड्हीसिव को लगाने से पहले गरम हवा फेंकने वाले ब्लोअर की मदद से सतह को पूरी तरह सुखाए। 
  • एक दीवार पर लेमिनेट को चिपकाने से पहले नमी की मात्रा को ध्यान में रखना चाहिए। यदि नमी की मात्रा अधिक है तो इसे गरम हवा फेंकने वाले ब्लोअर की सहायता से सुखना चाहिए उसके बाद दीवार के साथ एक 10 मिमी मोटे बोर्ड/प्लाय को फ़र्स्ट कोंटेक्ट प्वाइट के रूप में पिचकना चाहिए और यह एक विभाजक के रूप मे काम करेगा। लेमिनेटिक प्लाय/बोर्ड कभी भी दीवार के सीधे संपर्क मेन नहीं आना चाहिए। 
  • बारिश के डीनो में नमी के कारण लेमिनेट सतह फैल सकती है इसलिए एक साथ लेमिनेट को चिपकाते समय कम से कम 2 मिमी का अंतर होना चाहिए। अन्यथा फैलाव के कारण बलबले दिखाई दे सकते है। बारिश के मोसम में लेमिनेट को अधिक नमी वाले क्षेत्रों से बचाना चाहिए और अच्छी तरह ढका होना चाहिए। यह नमी के ग्रहण होने से रोकने के लिए है। जिसके परिणाम स्वरूप किनारे मूड सकते है।  

ऑन साइट लैमिनेट की संभावना 


  • एक बार जब लैमिनेट को साइट पर लाया जाता है तो इसे 48 घंटो के लिए 2 बोर्डो  के बीच बिलकुल सीधा रखना चाहिए। लैमिनेट और आधार को 48 घंटो के लिए  उस वातावरण में रखने की आवश्यकता है। 
  • लैमिनेट को सूरज की सीधी रोशनी में आने से बचाना चाहिए और चटकने से बचाने के लिए कमरे के सामान्य तापमान पर रखना चाहिए। 

चटकने से बचाने के लिए सावधानियाँ 


  • लैमिनेट को चटकने और पैनलो के मुड़ने जैसी समस्याओ से बचाने के लिए हमेशा आधार के साथ में माध्यम धनत्व के फाइवर बोर्ड/पार्टिकल बोर्ड अथवा उच्च गुनवाता के प्लाय बोर्डो का प्रयोग करें। 
  • काटने के बाद लैमिनेट के सभी 4 कोनों से चिकना करने के लिए इसे रेगमार से रगड़े। व्यू हॉल कटिंग के लिए सुनिश्चित करें की कोने ठीक से चिकने हो और सभी चारो कोनों में कम से कम 3मिमी की रेडिवस हो। 
  • उत्क्रष्ट फिनिश को सुनिश्चित करने के लिए तेल धारतार और बढ़िया उपकरणो का प्रयोग करें।      
ads
BERIKAN KOMENTAR ()